Wednesday, May 18, 2016

हिन्दू और मुसलमान धर्म


 आइए देखे हिन्दू धर्म क्यों सरेहश्रेष्ठ है और मुसलमान धर्म मात्र एक नक़ल :

1.कितने हिन्दू भाइयों को ही क्या मुसलमानो को भी ये न पता होगा की पैगम्बर सिकंदर के 500 साल बाद पैदा हुए था।
2. भारत को छोड़ पूरे संसार में रमजान को”रामदान”कहते है,आप गूगल परभी देख सकते हैं । भारत में अपनी नक़ल छुपानेको इन्होने इसे “रमजान” कर दिया | इस्लाम के पवित्र महीना रमजान संस्कृत शब्द”रामज्ञान”का अपभ्रंस है । और मक्का में विश्वप्रसिद्ध शिव लिंग भी था और अभीभी है और ये मुस्लिम हज के समय इस शिवलिंग को ही सज़दा करते हैं।
3. मुहम्मद के चाचा एक हिन्दू थे और अरब में भी आर्य संस्कृति का प्रभाव बहुत था। मुहम्मद के चाचा ने एक पुस्तक भी लिखी थी”शायर उलओकुल “जिसमें हिन्दू संस्कृति की भूरी भूरी प्रसंसा थी बाद में मुहम्मद के बदमाशों नेउन्हें मार दिया था |
4-“मुसलमानो का “नमाज”भी संस्कृत के नमत शब्द से बना है जिसका अर्थ है झुकना |
5- मुसलमानो की दिन में ५ बार नमाज हमारे वेदों के”पञ्च महायज्ञ”की ही नक़ल है |
6-मुसलामानों का त्यौहार “शब्बेरात”शिवरात्री का हीअपभ्रंस है |
7-*नमाज के पहले ५ अंगों को धुलना वेदों के”शरीर शुद्ध्यर्थं पंचांग न्यासः”का ही नियम है |
8-ईद उल फितर भी हिन्दुओं के पित्री पक्षकी नक़ल है और ईद उल फ़ित्र में मुसलमान अपने
पुरखों को ही याद करते हैं |
9-नक़ल यहीं बंद नहीं हुई : गर्भा बना काबा,पुराण बना कुराण, संगे अश्वेत बना संगे अस्वाद, हमारा मलमास बना सफ़र मास, रविसे उनका रबी महिना, उनका ग्यारहवीशरीफ हमारे एकादशी कीही नक़ल है| गृह से ही उनका गाह शब्द बना ईदगाह , दरगाह*********** बस  बिना अकल नक़ल ही नकल 

Friday, May 6, 2016

तेरी कमीज मेरी कमीज से सफ़ेद कैसे?

 मित्रो,
जब से  मोदी  प्रधान मंत्री बने है रोज  कोई न कोई नया बवाल खड़ा हो जाता है। इसमें अधिकांश ऐसे है जिनका समाज अथवा देश के लिए  केवल इतना महत्व है की वह देश की अथवा मोदी की बदनामी करवाने की असफल कोशिश करते दिखाई देते है। हालाँकि ज्यादातर  ऐसे आरोप प्रिंट या सोशल मिडिया अथवा और कहीं भी एक या दो दिन ज्यादा चर्चा में  नहीं रहते है । लेकिन चटखारे लगा लगा कर गॉसिप करने वालो का टाइम पास तो हो ही जाता है।

अरविन्द केजरीवाल के मुख्य मंत्री बन जाने के बाद  मानों बन्दर के हाथ अस्तुरा लग गया है। अपने पद और बुद्धि पर घमन्ड ने पहले तो उन्हें उन अपनों से दूर किया जिनकी सहयता से  पद पर पहुंचे। फिर पार्टी के सिद्धांतो के लिए समर्पित सैकड़ो कार्य कर्ताओ से दूर किया। पता नहीं कैसे और किन सलाहकारों ने केजरीवाल को अपना काम छोड़ कर बाकी दुनियाँ की चिंता करने की सलाह दी है। इसीलिए कभी मोदी  खिलाफ चुनाव कभी योगेन्द्र यादव से मारपीट और अब मोदी की डिग्री की की चिंता उन्हें  दिन सता रही है। शायद उन्हें यह ग़लतफ़हमी गयी है की यदि मोदी की डिग्री नकली साबित हो जाये तो उनका प्रमोशन हो जाएगा और वह मुख्यमंत्री  प्रधान मंत्री  जायेंगे।
वैसे यह ख्वाब देखने वाले वह अकेले मुख्यमंत्री नहीं है। नितीश बाबू ने भी  ख्वाब सजाया है और हो भी क्यों न आखिर जिन के खिलाफ  लड़ाई लड़ कर राजनीत में अपनी जगह बनाई उनकी गोद में बैठ कर एक बार फिर पद प्राप्त हो गया है इसलिए  बिहार की चिंता कम देश की चिंता ज्यादा कर रहे रहे है। इसीलिए अब उन्होंने संघ मुक्त भारत बनाने की घोषणा कर दी है।

मैंने सुना था की पढ़ लिख कर आदमी विनम्र हो जाता है समझदार हो जाता है लेकिन अरविन्द को देख कर लगता है की बड़े और नामी गिरमी संस्थानों में पढाई करके आदमी चालक और घमण्डी हो जाता है जिसको अपने स्वार्थो के सिवाय न कुछ दिखाई देता है न सुनाई देता है। नहीं तो दिल्ली की दशा सुधरने के बजाय ख़राब न होती। जिन वादों से कुर्सी मिली उनका कोई जिक्र पद पर आने  के बाद न होना हर दिन केवल और केवल नए विवादों को जन्म देकर सुर्खियों में बने रहना ही उनका काम रह गया है।  इसलिए केजरीवाल अपनी सारी  ताकत ने मोदी की डिग्री को नकली सिद्ध करने में लगा दिया है।  हम तो केवल उन्हें भगवान सद्बुद्धि दे यह प्रार्थना ही कर सकते है। अरविन्द को पता नहीं की कितने ही ऐसे लोग जिन्होंने स्कूल या कालेज का मुंह भी नहीं देखा बड़े बड़े संस्थानों से पढ़ने वल उनकी नौकरी करते है। उदाहरण के लिए धीरु भाई अम्बानी ,जमशेद जी टाटा जैसे सैकड़ो लोग मौजूद है। नौकरी पाने के लिए बड़ी पढाई जरुरी है लेकिन जीवन में सफलता बुद्धिमानी ,विनम्रता और दूसरों को सम्मान देने से मिलती है।
मोदी का विरोध चाहे व्यक्तिगत हो अथवा सैद्धांतिक इसी काम को प्राथमिकता  देकर सभी विरोधी जिसमे कांग्रेस भी शामिल है कर रहे है।  मोदी देश की आर्थिक और सामाजिक स्थिति को ठीक करने के लिए रात दिन जुटे है और बाकी मिलकर इस कोशिश में लगे है की अपनी  कमीज को मोदी की कमीज से ज्यादा सफ़ेद कैसे सिद्ध कर दे। लेकिन शायद इन्हे पता नहीं कीदूसरे की कमीज गन्दी करने से अपनी कमीज साफ़ नहीं होती बल्कि अपनी कमीज को साफ़ करने से वह दूसरे कमीज से ज्यादा साफ़ दिखती है।
भगवान सभी को सद्बुद्धि दे।और जो जिम्मेदारी अरविन्द को दिल्ली की जनता ने उन्हें देकर अपना विश्वास दिया था उसे वह  पूरा करेंगे ताकि त्राहि त्राहि करती जनता को राहत मिले। 

और अंत में 

दुश्मनी करो तो इतनी 
की गर हम फिर दोस्त 
हो जाये तो शर्मिंदा  हो।
अजय सिंह "जे एस के "




Saturday, April 30, 2016

Bhagvat Geeta One setence per chapter



Chapter 1 :
Wrong thinking is the only problem in life

Chapter 2 :
Right knowledge is the ultimate solution to all our problems

Chapter 3 :
Selflessness is the only way to progress and prosperity

Chapter 4 :
Every act can be an act of prayer

Chapter 5 :
Renounce the ego of individuality and Rejoice in the Bliss of Infinity

Chapter 6 :
Connect to the Higher Consciousness Daily

Chapter 7 :
Live what you learn

Chapter 8 :
Never give up on yourself

Chapter 9 :
Value your blessings

Chapter 10 :
See divinity all around

Chapter 11 :
Have enough surrender to see the Truth as it is

Chapter 12 :
Absorb your mind in the Higher

Chapter 13 :
Detach from Maya and Attach to Divine

Chapter 14 :
Live a lifestyle that matches your vision

Chapter 15 :
Give priority to Divinity

Chapter 16 :
Being good is a reward in itself

Chapter 17 :
Choosing the right over the pleasant is a sign of power

Chapter 18 :
Let Go, Lets move to Union with God

Ved Vyasa.....author of Bhagvat Geeta

 

 

 

  In last

 

Awesome. Blessed children.... :

They are the children of Prof Christopher doing research on Bharatiya samskruti in Banaras university They both can chant all the 18 chapters of Bhagavadgita

 

17 points that always keep in your mind





 👉1) जो आपसे दिल से बात करता है उसे कभी दिमाग से जवाब मत देना।
👉2) एक साल मे 50 मित्र बनाना आम बात है 50 साल तक एक मित्र से मित्रता निभाना खास बात है। 👉3) एक वक्त था जब हम सोचते थे कि  हमारा भी वक्त आएगा और एक ये वक्त है कि हम सोचते है कि हम सोचते है कि वो भी क्या वक्त था।
  👉4) एक मिनट मे जिन्दगी नही बदलती पर एक मिनट सोच कर लिखा फैसला पूरी जिन्दगी बदल देता है।
 👉5) आप जीवन मे कितने भी ऊॅचे क्यो न उठ जाए पर अपनी गरीबी और कठिनाई को कभी मत भूलिए।
 👉6) वाणी मे भी अजीब शक्ति होती है  कङवा बोलने वाले का शहद भी नही बिकता और मीठा बोलने वाले की मिर्ची भी बिक जाती है।
👉7) जीवन मे सबसे बङी खुशी उस काम को करने मे है जिसे लोग कहते है कि तुम नही कर सकते हो।
  👉8) इसांन एक दुकान है और जुबान उसका ताला। ताला खुलता है, तभी मालूम होता है कि
दुकान सोने की है या कोयले की।

👉9) कामयाब होने के लिए जिन्दगी मे कुछ ऐसा काम करो कि लोग आपका नाम Face book पे नही Google पे सर्च करे।
👉10) दुनिया विरोध करे तुम ङरो मत क्योकि जिस पेङ पर फल लगते है दुनिया उसे ही पत्थर मारती है।
 👉11) जीत और हार आपकी सोच पर ही निर्भर है मान लो तो हार होगी और ठान लो तो जीत होगी। 👉12) दुनिया की सबसे सस्ती चीज है सलाह एक से मांगो हजारो से मिलती है सहयोग हजारो से मांगो एक से मिलता है।
👉13) मैने धन से कहा कि तुम एक कागज के टुकङे हो धन मुस्कराया और बोला बिल्कुल मै एक कागज का टुकङा हूॅ लेकिन मैने आज तक जिन्दगी मे कूङेदान का मुहॅ नही देखा।
👉14) आंधियो ने लाख बढाया हौसला धूल का, दो बूंद बारिश ने औकात बता दी!
👉15) जब एक रोटी के चार टुकङे हो और खाने वाले पांच हो तब मुझे भूख नही है ऐसा कहने वाला कौन है "माॅ"
 👉16) जब लोग आपकी नकल करने लगे तो समझ लेना चाहिए कि आप जीवन मे सफल हो रहे है। 👉17) मत फेंक पत्थर पानी मे उसे भी कोई पीता है। मत रहो यू उदास जिन्दगी मे तुम्हे देखकर भी कोई जीता है।

और अंत में



झांक रहे सब सबके आँगन,अपने आँगन झाँके कौन?
ढूँढ रहे दुनियाँ में खामी,अपने मन में झाँके कौन?
सबके भीतर चोर छुपा है,उसको अब ललकारे कौन?
दुनियाँ सुधरे सब चिल्लाते,खुद को आज सुधारे कौन?
पर उपदेश कुशल बहुतेरे,खुद पर आज बिचारे कौन?
हम सुधरें तो जग सुधरेगा,इस मुद्दे पर सब हैं मौन?

अध्यापक

 किसी ने साधारण से दिखने वाले शिक्षक से पूछा -क्या करते हो आप ? शिक्षक का सुन्दर जवाब देखिए-



 



सुन्दर सुर सजाने को साज़ बनाता हूँ ।
नौसिखिये परिंदों को बाज़ बनाता हूँ ।।

चुपचाप सुनता हूँ शिकायतें सबकी ।
तब दुनिया बदलने की आवाज़ बनाता हूँ।

समंदर तो परखता है हौंसले कश्तियों के ।
 मैं डूबती कश्तियों को जहाज़ बनाता हूँ ।।

बनाए चाहे चांद पे कोई बुर्ज-ए- ख़लीफ़ा ।
अरे मैं तो कच्ची ईंटों से ही ताज बनाता हूँ ।।

Thursday, January 28, 2016

आज कल के हालात पर पत्रकारो/मिडिया को नसीहत

आज कल के हालात पर   पत्रकारो/मिडिया को नसीहत 

आज कलम का कागज से ,मै दंगा करने वाला  हूँ,.
मीडिया की सच्चाई को मै ,नंगा करने वाला हूँ।

मीडिया जिसको लोकतंत्र का ,चौंथा खंभा होना था,
खबरों की पावनता में ,जिसको गंगा होना था। 

आज वही दिखता है हमको,वैश्या के किरदारों में,
बिकने को तैयार खड़ा है ,गली चौक बाजारों में।

दाल में काला होता है ,तुम काली दाल दिखाते हो,
सुरा सुंदरी उपहारों की,खूब मलाई खाते हो।

गले मिले सलमान से आमिर,ये खबरों का स्तर है,
और दिखाते इंद्राणी का ,कितने फिट का बिस्तर है।

म्यंमार में सेना के ,साहस का खंडन करते हो,
और हमेशा दाउद का,तुम महिमा मंडन करते हो।

हिन्दू कोई मर जाए तो ,घर का मसला कहते हो,
मुसलमान की मौत को ,मानवता पे हमला कहते हो।
लोकतंत्र की संप्रभुता पर ,तुमने कैसा मारा चाटा है,
सबसे ज्यादा तुमने हिन्दू,मुसलमान को बाँटा है।

साठ साल की लूट पे भारी ,एक सूट दिखलाते हो,
ओवैसी को भारत का तुम ,रॉबिनहुड बतलाते हो।

दिल्ली में जब पापी वहशी ,चीरहरण मे लगे रहे,
तुम एश्श्वर्या की बेटी के,नामकरण मे लगे रहे।

दिल से' दुनिया समझ रही है, खेल ये बेहद गंदा है,
मीडिया हाउस और नही कुछ,ब्लैकमेलिंग का धंधा है।

गूंगे की आवाज बनो ,अंधे की लाठी हो जाओ,
सत्य लिखो निष्पक्ष लिखो ,और फिर से जिंदा हो जाओ।
 

(उपरोक्त कविता व्हाट्स अप पर प्राप्त हुई है )

Thursday, December 31, 2015

सोने की चिड़िया भारत

 
 

 दोस्तों ,

जिंदगी में कभी -कभी ऐसे क्षण आते की समझ में नहीं  आता  की रोऊँ या हसूँ। साल खत्म होते होते टाइम्स ऑफ़ इंडिया में छपे एक संचार को पढ़ने  के बाद मेरा यही हाल हुआ,अब यह आप पर निर्भर करता है की आपको यह कैसा लगता है। 

समाचार यह है की देश  अनुमानित साढ़े तीन लाख भिखारिओ में करीब पाँचवा हिस्सा यानि 70000 लोग कम से कम सीनियर सेकेंडरी अर्थात 12 वी पास है। मुझे लगा की सोने चिड़या कहा जाने वाला यह देश वाकई महान है। जहाँ के भिखारी भी  इतना पढ़े लिखे हो उस देश का यारों क्या कहना। 

लेकिन यही डिस्कशन जब मैंने अपने मित्र से किया तो उन्होंने तो पूरे आधे घंटे का भाषण यह समझाने के लिए से डाला की 1835 में   मैकाले  नामक अगंरेज ने हिंदुस्तान में आकर यहाँ की शिक्षा व्यस्था इतनी ख़राब करवा दी किअब इस देश में ज्यादातर लोग इसी मानसिकता के  है हालांकि उनका व्यसाय भीख माँगना ही हो यह आवश्यक नहीं है। उदाहरण के लिये देश के स्वतन्त्र होने के करीब ६८-६९ वर्षो के बाद भी हमारे नेता लोग पूरी दुनियाँ में जा जा कर और देश की गरीबी का रोना रो कर हर तरह की सहायता प्राप्त करने में महारथ रखते है। उनकी पूरी कोशिश रही की देश का स्वाभिमान जागने न पाये और किसी हद तक मैं उन्हें अपने काम में सफल भी मानता हूँ। 

मागने की आदत केवल नेतावों की है  यह कहना भी शायद उनके साथ ज्यादती होगी। देश के किसी भी मन्दिर में आप जाये तो आपको पता चलेगा की गरीब आदमी मंदिर के बाहर और अमीर मंदिर के अन्दर कुछ न कुछ मागने में ही लगा हुआ है।  इतना ही नहीं  इससे भी एक कदम आगे चले और अच्छी खासी आमदनी वाले  से भी यदि आप किसी की सहायता करने के लिये निवेदन करें तो वोह आपको अपंना ही दुखड़ा सुनाने लग जायेगा और थोड़ा चालाक हुआ तो पिछले दिनों उसने कहाँ - कहाँ दान किया है इसका पूरा विवरण आपको  देकर कर विश्वास दिला देगा  की इस युग में कर्ण वही है। 

चलिए हम भी कहा  से कहा पहुँच गये। जिन्दगी का  एक और   वर्ष  खत्म होने में बस २० घण्टे बचे है। जल्दी से 2015 में  कुछ करना बचा है उसे फटाफट निपटाया जाये ताकि नए साल में हम अपना हुनर फिर दिखा सके। और जाते हुये साल को अलबिदा कहकर नए का स्वागत करे।


 और अन्त में 

 क्या किया मैंने  अधिक ,जो नहीं कर चुका संसार अबतक
वृद्ध जग को क्यों अखरती है क्षणिक मेरी जवानी
मैं छिपाना जानता  तो जग मुझे साधु समझता
शत्रु मेरा बन गया है छल रहित व्यहार मेरा।
                                                                             --हरिवंश राय बच्चन 

अजय सिंह "जे  एस के "


मोदी की बिना योजना लाहौर यात्रा


कवि गौरव चौहान: (मोदी की बिना योजना लाहौर यात्रा का विरोध करने वालों को जवाब देती मेरी नई कविता)
रचनाकार-गौरव चौहान इटावा उ प्र 9557062060

 
जिसकी आँखों में भारत की उन्नति का उजियारा है,
जिसकी गलबहियां करने को व्याकुल भी जग सारा है,
अमरीका जापान चीन इंग्लैंण्ड साथ में बोले हैं,
  घूम घूम कर जिसने दरवाजे विकास के खोले हैं,


जिसके सभी विदेशी दौरे सफल कहानी छोड़ गए,
बड़े बड़े तुर्रम खां तक भी हाथ सामने जोड़ गए,
यूरेनियम दिया सिडनी ने,रूस मिसाइल देता है,
बंगलादेश सरहदों पर चुपचाप सुलह कर लेता है,

उन्ही विदेशी दौरों की अब खिल्ली आज उड़ाते हैं?
देश लूटने वाले उसको कूटनीति सिखलाते हैं,
कायम था ग्यारह वर्षों से,वो वनवास बदल डाला,
मोदी ने लाहौर पहुंचकर सब इतिहास बदल डाला,

जिस धरती पर हिन्द विरोधी नारे छाये रहते हैं,
जिस धरती पर नाग विषैले मुहँ फैलाये रहते हैं,
जिस धरती पर हाफ़िज़ जैसे लेकर बैठे आरी हों,
और हमारे मोदी जी की देते रोज सुपारी हों,

जहाँ सुसाइड बम फटते हैं रोज गली चौराहों में,
बारूदी कालीन बिछी है जहाँ सियासी राहों में,
जहाँ होलियाँ बच्चों के संग खेली खूनी जाती हों,
बेनजीर सी नेता भी गोली से भूनी जाती हों,

उसी पाक में पहुंचे मोदी,शोर मचाया संसद ने,
सभा बीच रावण की देखो पैर जमाया अंगद ने,
बिना सुरक्षा बिना योजना जाना एक दिलेरी है,
लगता है उलझन सुलझाने में कुछ पल की देरी है,

लाहौरी दरबार समूचा ही अंगुली पर नाचा है,
पड़ा मणीशंकर के गालों पर भी एक तमाचा है,
ये गौरव चौहान कहे अब देखो जिगरा मोदी का,
जांबाजी से भरा हुआ है कतरा कतरा मोदी का,

अंगारों को ठंडा करदे,उसे पसीना कहते है,
इसको ही तो प्यारे छप्पन इंची सीना कहते हैं,
------कवि गौरव चौहान(कृपया मूलरूप में ही शेयर करें,कटिंग,पेस्टिंग और जरा सी भी एडिटिंग न करें)

                                                     और  अन्त में 
 बगैर  पाकिस्तानी  वीज़ा लिए अपने 120 सिपहसालारों के साथ
पाकिस्तान में मौजूद था हमारा  पीएम मोदी


ये देख अभिनेता राजकुमार का एक डायलॉग फिर याद आ गया


जानी ,,,,, हम तुमसे मिलेंगे ,,ज़रूर मिलेंगे
लेकिन वो ज़मीन भी तुम्हारी होगी,,,,
प्लेन भी तुम्हारा होगा,,,
पार्टी भी तुम्हारी होगी,,,
लेकिन वक़्त हमारा होगा।
अजय सिंह "जे एस के "

Saturday, December 26, 2015

निर्भया काण्ड के आरोपी की रिहाई के विरुद्ध भारत की आवाज

निर्भया काण्ड के आरोपी की रिहाई के विरुद्ध भारत की न्याय व्यवस्था को निर्भया के स्वर में धिक्कारती नयी कविता। स्वयं पढ़ें और अधिक से अधिक शेयर करें। नीति नियन्ताओं के कानों तक पहुंचनी चाहिये निर्भया की आवाज।
***********************************************
जिसके वहशीपन से मेरी सांस का धागा टूट गया
बहुत दुखी हूँ तुम्हें बताते मेरा कातिल छूट गया
रौंद गया जो मेरे सपने जिसने मुझको मारा था
केवल मेरा नहीं था वो मानवता का हत्यारा था

मेरी भी अभिलाषा थी मैं खूब उड़ूँ पक्षी बनकर
लेकिन मेरे जीवन में वो आया नरभक्षी बनकर
सीधा साधा मेरा जीवन, कुछ घंटों में बदल गया
सुनकर जिसका क्रूर कृत्य दिल बड़े बड़ों का दहल गया

जिसके कुकृत्य से शर्मशार भारत माता की कोख हुई
उसकी सजा बढ़ाने को जब हाईकोर्ट से रोक हुई
तब मुझे लगा कि भारत शायद अब भी जाग नहीं पाया
किसको कौन सजा देनी है यह भी जान नहीं पाया

उसको बच्चा मान लिया जो जल्लादों से बद्तर है
सच कहती हूँ आज की पीड़ा उस पीड़ा से बढ़कर है
मेरा कातिल निर्भय होकर जब सड़कों पर घूमेगा
लाचार व्यवस्था पर भारत की बच्चा बच्चा थूकेगा

न्याय की आशा में थी मैं तो मेरे संग में घात हुआ
मेरे संग भी वही हुआ जो अरुणा जी के साथ हुआ
सिंघासन पर मुट्ठी भींचे द्रोण नहीं हो सकती हूँ
मौन रहो तुम लोग मगर मैं मौन नहीं हो सकती हूँ 

मैं पूछ रही हूँ तुम सबसे क्या किया करोगे क्या आगे
जिससे कोई किसी बहन की लाज की देहरी न लांघे
इस अंधे कानून की आँखों से पट्टी हटवाने में
कितनी लाशें और लगेंगी ये पट्टी खुलवाने में

Friday, December 11, 2015

हिट एंड रन, बड़े आराम से

दोस्तों,
कल सलमान खान के हिट एंड रन केस का निर्णय हाई कोर्ट ने सुना दिया। कोर्ट ने कहा की सलमान के खिलाफ सुबूत पुख्ता न  होने के कारण सन्देह का लाभ उन्हें देते हुए केस से रिहा कर दिया गया है। कोर्ट ने यह भी टिप्पणी की,कि पुलिस के जिन लोगों ने इस केस की जाँच की उन्होंने उसमें अनेक गलतियाँ की जिससे केस कमजोर हुआ और गुनाह साबित नहीं हो सका। लेकिन कोर्ट ने पुलिस के खिलाफ किसी कार्यवाही किये जाने
का कोई आदेश नहीं दिया। पूरे केस में अब तक तेरह साल निकल गये है। यदि केस को लेकर महाराष्ट्र सरकार सुप्रीम कोर्ट  तो कुछ और साल आराम से निकल जायेंगे। घटना में जिस गरीब की मृत्यु हुई उसके परिवार वालों को इस निर्णय से घोर  निराशा हुई जो उनकी अंतिम उम्मीद थी।

इस निर्णय की चारों तरफ चर्चा हो रही है। सुरेश जरीवाला मोदी के बड़े मुस्लिम समर्थक है और गुजरात से आते है उन्होंने कहा की " हम तो पहले से कह रहे थे की सलमान निर्दोश और उन्हें जान कर फँसाया  गया था। कई और नामी गिरामी फ़िल्मी और सामाजिक  हस्तियों ने भी अपने ऐसे ही विचार प्रकट किये हैं । 

इस निर्णय से मुझे एक ज्ञान तो यह हुआ की न्यूटन का  दूसरा नियम "हर एक्शन का बराबर और उल्टा रिएक्शन" होता है  को नयी तरह परिभाषित करने  जरुरत महसूस हो रही है। नई परिभाषा कुछ ऐसी होगी "हर  एक्शन  रिएक्शन होता है लेकिन यह कब होगा, कितना होगा और होगा भी  नहीं होगा यह समय, जगह और किन  लोगो के  बीच होना है पर निर्भर करेगा। उदाहरण  के लिए यदि आपको चींटी काट ले तो आप नहीं काट सकते ,हाथी अपनी सूंड़ में लपेट कर फेक दे  तो भी आप  इसके बराबर और उलटी रिएक्शन  नहीं सकते है। यदि कोई मुस्लिम किसी हिन्दू को  गाली दे और आप हिंदुस्तान  है तो इसकी रिएक्शन  आपको इजाजत नहीं  सकती और यदि उसने आपको मार दिया हो तो उसे सक  आधार पर छोड़ा सकता है लेकिन यदि कोई हिन्दू किसी मुस्लिम को गाली दे  रिएक्शन आपकी पिटाई और जेल दोनों  सकती है और यदि हिन्दू ने मुसलमान की पिटाई  कर दी तो आपको दंगा फैलने  के डर से या उसके आरोप  जेल  तो होगी ही साथ ही आप की  सम्पति इत्यादि  जब्त  सकती है। अतः न्यूटन के   दूसरे नियम के बारे  में आप अपनी समझ को जितनी  जल्दी  ठीक कर सके उतना ही सुरक्षित आप अपने को महसूस कर  सकते है। 

इस निर्णय से दूसरी यह बात भी समझ आ गई वैसे तो शक सन्देह करना बहुत बुरा माना जाता है और इसे न करने की सीख हमेशा हम अपने लोगो तो देते रहते है लेकिन। इसके कुछ अनकहे लाभ भी है इसलिये मौका देख कर कभी कभी शक  संदेह करना देश हित  में होता है और इससे आप के पैसे कमाने की सम्भावनाये भी बढ़ती है और इज्ज़त भी। इसका क्या और कितना लाभ मिलेगा यह इस बात पर निर्भर करेगा की आपके शक की क्वालिटी और उसकी टाइमिंग क्या है और उससे दूसरे आदमी का क्या और कितना लाभ हो सकता है। यानि न्यूटन का नियम यहाँ भी लागू होगा।

मुझे पूरी उम्मीद है जैसे इस नियम बारे में संशोधन बताने से आइन्स्टीन को नोबल प्राइज मिला था,उसी तरह  मेरा नाम भी इस बार के भारत रत्न के लिए रिकमेंड किया जायेगा। अन्यथा अपनी कथा की व्यथा लेकर मैं यूनाइटेड नेशन जाने के लिए स्वतंत्र हूँ। कम से कम इतनी रिएक्शन तो मेरा अधिकार है। 

अजय सिंह "जे एस के "